Cervical Cancer : पूनम पांडेय की सर्वाइकल कैंसर से मौत, जानिए आखिर क्या है यह कैंसर

1865
Cervical Cancer
पूनम पांडेय की सर्वाइकल कैंसर से मौत, जानिए आखिर क्या है यह कैंसर

India News (इंडिया न्यूज़), Cervical Cancer : मॉडल और बॉलीवुड एक्ट्रेस पूनम पांड के निधन से फैंस को काफी धक्का लगा है। डॉक्टरों ने उनके निधन का सीधा कारण सर्वाइकल कैंसर बताया है। इसमें साफ कहा गया के वह काफी समय से कैंसर से पीड़ित थी, लेकिन उनको इसका पता काफी समय बाद चला जिस वजह से उनका निधन हो गया। ऐसे में आज की इस रिपोर्ट में हम आपको सर्वाइकल कैंसर के बारें में सारी बताएंगे जो आपको इससे सावधान रखे।

सर्वाइकल कैंसर, या गर्भाशय ग्रीवा (uterine cervix) का कैंसर, जिसको मानव महिला प्रजनन प्रणाली में गर्भाशय (गर्भ) का निचला हिस्सा भी कही जाता है। आपके गर्भाशय ग्रीवा की सतह पर शुरू होता है। यह तब होता है जब आपके गर्भाशय ग्रीवा की सेल प्रीकैंसरस कोशिकाओं में बदलने लगती हैं। सभी कैंसर पूर्व सेल कैंसर में नहीं बदल जाएंगी, लेकिन इन समस्याग्रस्त सेल को ढूंढना और उनके बदलने से पहले उनका इलाज करना सर्वाइकल कैंसर को रोकने के लिए महत्वपूर्ण है।

सर्वाइकल कैंसर के प्रकार

गर्भाशय ग्रीवा के कैंसर के मुख्यत: 2 प्रकार के होते हैं: स्क्वैमस सेल कार्सिनोमा और एडेनोकार्सिनोमा। लगभग 80% से 90% सर्वाइकल कैंसर स्क्वैमस सेल कार्सिनोमा होते हैं, जबकि 10% से 20% एडेनोकार्सिनोमा होते हैं। इसके अदंर गर्भाशय ग्रीवा आपके गर्भाशय का सबसे निचला हिस्सा है (जहां गर्भावस्था के दौरान बच्चा बढ़ता है)। यह थोड़ा-थोड़ा डोनट जैसा दिखता है और आपके गर्भाशय को आपकी वजाइना के द्वार से जोड़ता है। यह सेल से बने टिशू से ढका होता है।

सर्वाइकल कैंसर कितना आम है?

संयुक्त राज्य अमेरिका की मानें तो हर साल लगभग 14,000 लोगों में सर्वाइकल कैंसर का पता चलता है। 35 से 44 वर्ष की आयु के लोगों में सर्वाइकल कैंसर का सबसे अधिक खतरा सामने आता है। स्क्रीनिंग और एचपीवी वैक्सीन के कारण इस दर में गिरावट आ रही है।

सर्वाइकल कैंसर के सबसे आम लक्षण क्या हैं

सर्वाइकल कैंसर के शुरुआती चरणों में आमतौर पर लक्षण शामिल नहीं होते और इसका पता लगाना मुश्किल होता है। सर्वाइकल कैंसर के पहले लक्षण विकसित होने में कई साल लग सकते हैं। सर्वाइकल कैंसर की जांच के दौरान असामान्य सेल का पता लगाना सर्वाइकल कैंसर से बचने का सबसे अच्छा तरीका है।

सर्वाइकल कैंसर के लक्षण 

  • पानी जैसा या खूनी वजाइन स्राव जो भारी हो सकता है और उसमें दुर्गंध हो सकती है।
  • संभोग के बाद, पीरियड के बीच या रजोनिवृत्ति के बाद योनि से रक्तस्राव।
यदि कैंसर आस-पास के टिशू या अंगों में फैल गया है, तो लक्षणों में ये शामिल हो सकते हैं:
  • पेशाब करने में कठिनाई या दर्द, कभी-कभी पेशाब में खून भी आना।
  • दस्त, या मलत्याग करते समय आपके मलाशय से दर्द या रक्तस्राव।
  • थकान, वजन और भूख में कमी।

सर्वाइकल कैंसर का क्या कारण है?

अधिकांश सर्वाइकल कैंसर एचपीवी वायरस के कारण होते हैं, जो एक यौन संचारित संक्रमण है। एचपीवी यौन संपर्क (गुदा, मौखिक या योनि) से फैलता है और कैंसर का कारण बन सकता है। अधिकांश लोगों को अपने जीवन में कभी न कभी एचपीवी हो जाएगा और उन्हें इसका एहसास नहीं होगा क्योंकि उनका शरीर संक्रमण से लड़ता है। हालाँकि, यदि आपका शरीर संक्रमण से नहीं लड़ता है, तो यह आपके गर्भाशय ग्रीवा की सेल को कैंसर सेल में बदलने का कारण बन जाता है।

यह भी पढ़ें : Poonam Pandey Dies : मशहूर मॉडल और एक्ट्रेस पूनम पांडेय का कैंसर से निधन