Organ Transplant News : अब फिर से हो सकेंगे ऑर्गन ट्रांसप्लांट, एनओसी के चक्कर में अटके 13 रोगी

40
Organ Transplant News
अब फिर से हो सकेंगे ऑर्गन ट्रांसप्लांट, एनओसी के चक्कर में अटके 13 रोगी
  • सरकार ने एनओसी देने के लिए बनाई नई कमेटी
  • फर्जी एनओसी प्रकरण के चलते लगभग बंद से हो गए थे ट्रांसप्लांट

India News (इंडिया न्यूज), Organ Transplant News : फर्जी एनओसी मामला सामने आने के बाद जयपुर में एसएमएस मेडिकल कॉलेज से संबद्ध सुपर स्पेशियलिटी अस्पताल सहित अधिकांश निजी अस्पतालों में भी ऑर्गन ट्रांसप्लांट बंद हो गए। इसकी वजह से वास्तविक मरीजों की जान सांसत में आ गई है।

ऐसे में सरकार की ओर से अब ऑर्गन ट्रांसप्लांट के लिए एनओसी देने के लिए सरकार ने नई कमेटी का गठन किया है। यह कमेटी सवाई मानसिंह (एसएमएस) मेडिकल कॉलेज के प्रिंसिपल की अध्यक्षता में बनाई गई है, जिसमें एसएमएस के पूर्व अधीक्षक, आईएमए राजस्थान के पूर्व अध्यक्ष समेत अन्य लोगों को शामिल किया गया है। इस कमेटी के बनने से अब राज्य में रुके पड़े ऑर्गन ट्रांसप्लांट के ऑपरेशन फिर से शुरू हो सकेंगे।

Organ Transplant News : कमेटी मेडिकल एजुकेशन डिपार्टमेंट के अधीन रहकर काम करेगी

सरकार की ओर से जारी आदेशों के मुताबिक स्टेट लेवल ऑथराइजेशन कमेटी का चेयरमैन सवाई मानसिंह मेडिकल कॉलेज के प्रधानाचार्य को बनाया गया है। सवाई मानसिंह हॉस्पिटल के पूर्व अधीक्षक डॉ.नरपत सिंह शेखावत, एसएमएस हॉस्पिटल में जनरल सर्जरी विभाग के प्रोफेसर डॉ.बी.एल.यादव, इंडियन मेडिकल एसोसिएशन राजस्थान के पूर्व अध्यक्ष डॉ.अशोक शारदा, सेवा भारती राजस्थान की सीमा दया और चिकित्सा शिक्षा सचिव एवं निदेशक जनस्वास्थ्य के प्रतिनिधि समिति में सदस्य होंगे। यह कमेटी मेडिकल एजुकेशन डिपार्टमेंट के अधीन रहकर काम करेगी।

13 मरीजों का अटका ऑर्गन ट्रांसप्लांट

फर्जी एनओसी मामला सामने आने के बाद पिछले एक महीने में 20 से 30 ऐसे मरीजों का ऑर्गन ट्रांसप्लांट अटक गया है, जिनके पास वास्तविक ब्लड रिलेटिव सहित सभी दस्तावेज उपलब्ध हैं। कुछ मरीज तो ऐसे हैं, जिनका प्रत्यारोपण 25 से 30 दिन पहले ही हो जाना चाहिए था, लेकिन अब तक इन्हें एनओसी नहीं मिली। एक महीने में सरकार के हर दर पर ये चक्कर लगा चुके, लेकिन इन्हें मदद नहीं मिल पा रही है। ऐसे 13 मरीज बताए जा रहे हैं, जिनके दस्तावेजों का सत्यापन और उसके बाद उन्हें एनओसी नहीं मिल रही।

फर्जी एनओसी मामले में पुरानी कमेटी को किया था भंग

इससे पहले वाली कमेटी में स्टेट ऑथराइजेशन कमेटी में प्रिंसिपल एसएमएस मेडिकल कॉलेज के अलावा एसएममएस हॉस्पिटल के कुछ डॉक्टर, वर्तमान अधीक्षक समेत दो अन्य समाजसेवी मौजूद थे। इस कमेटी ने साल 2022 से एक भी बैठक नहीं की थी। इसी का फायदा उठाते हुए एसएमएस हॉस्पिटल के सहायक प्रशासनिक अधिकारी गौरव सिंह ने अपने स्तर पर फर्जी एनओसी जारी कर दी थी। इन एनओसी के आधार पर पिछले एक साल में जयपुर समेत पूरे प्रदेश में 945 ऑर्गन ट्रांसप्लांट हो गए।

 

यह भी पढ़ें : Lok Sabha Elections in Haryana : प्रदेश में लोकसभा चुनाव कल, सुबह 7 बजे से शुरू होगा मतदान

यह भी पढ़ें : Haryana Heat Wave : प्रदेश में प्रचंड गर्मी, हिसार में 2 लोगों की मौत