निवेशकों को आकर्षित करने वाली पॉलिसी पर मंथन

465

हरियाणा सरकार ऐसी पोलिसी बनाने को लेकर गंभीर है जो निवेशकों को प्रदेश में अधिक से अधिक उद्योग लगाने के लिए आकर्षित करे तथा उद्योगपतियों को उनके कार्य सरल व सहज ढ़ंग से करने में सहायक सिद्ध हो।  उप-मुख्यमंत्री दुष्यंत चौटाला, (जिनके पास उद्योग एवं वाणिज्य विभाग का प्रभार भी है) ने चंडीगढ़ में उद्योग विभाग के वरिष्ठ अधिकारियों के साथ ‘हरियाणा इंटरप्राइजिज प्रमोशन पोलिसी-2020’ को लेकर मंथन किया।

उप मुख्यमंत्री को बताया गया कि विभाग द्वारा राज्य के उद्योगपतियों की एसोसिएशनों को ‘हरियाणा इंटरप्राइजिज प्रमोशन पोलिसी-2020’ बनाने के लिए सुझाव देने हेतु पत्र लिखे थे, जिनमें से कई के सुझाव आए हैं। 

उन्होंने कहा कि वे खुद भी राज्य के जिलों में जाकर उद्योगपतियों की एसोसिएशनों से मशविरा करेंगे कि सरकार की ओर से उद्योगों को और क्या-क्या सहूलियतें दी जा सकती हैं ताकि उनके उद्योग खूब फलें-फूलें और प्रदेश के युवाओं को अधिक रोजगार मिल सके।

दुष्यंत चौटाला ने अधिकारियों को निर्देश दिए कि ‘कन्फ्रडेशन ऑफ इंडियन इंडस्ट्रीज’ (सीआईआई) तथा एसोचैम जैसी औद्योगिक एसोसिएशनों को भी पोलिसी के लिए अपने सुझाव देने के लिए पत्र लिखें। उप-मुख्यमंत्री ने बताया कि हरियाणा सरकार राज्य के उद्योगपतियों से सुझाव लेकर उनकी पंसद के अनुसार ‘हरियाणा इंटरप्राइजिज प्रमोशन पोलिसी-2020’ का निर्माण करने जा रही है ताकि प्रदेश में उद्योगों के लिए और अधिक अनुकूल माहौल बन सके।

उन्होंने बताया कि वर्ष 2015 में हरियाणा सरकार ने ‘हरियाणा इंटरप्राइजिज प्रमोशन पोलिसी-2015’ बनाई थी जिसकी मान्य अवधि 5 वर्ष थी और अब राज्य के उद्योगपतियों से सलाह-मशविरा करके नई ‘हरियाणा इंटरप्राइजिज प्रमोशन पोलिसी- 2020’ बनाई जा रही है।