MP Kumari Selja : शिक्षा का कभी बाजारीकरण नहीं होना चाहिए, सभी को शिक्षा के समान अवसर मिलने चाहिए : सैलजा 

65
MP Kumari Selja
शिक्षा का कभी बाजारीकरण नहीं होना चाहिए, सभी को शिक्षा के समान अवसर मिलने चाहिए : सैलजा 
  • कहा स्कूलों व कॉलेजों में शिक्षकों के हजारों पद रिक्त, विद्यार्थियों की पढ़ाई हो रही है बाधित
  • सरकारी शिक्षण संस्थानों को फेल कर दिया जा रहा है प्राइवेट संस्थानों को बढ़ावा

India News Haryana (इंडिया न्यूज), MP Kumari Selja : सिरसा की सांसद एवं अखिल भारतीय कांग्रेस कमेटी की महासचिव (उत्तराखण्ड प्रभारी) कुमारी सैलजा ने कहा कि बीजेपी की सरकार शिक्षा का निजीकरण कर रही है। प्रदेश के सरकारी स्कूलों में शिक्षकों के हजारों पद रिक्त पड़े हैं पर सरकार रिक्त पदों पर भर्ती नहीं कर रही। इससे प्राइवेट स्कूलों को बढ़ावा मिल रहा है। खासकर आर्थिक रूप से कमजोर लोगों के लिए यह बड़ी समस्या बनती जा रही है क्योंकि उनके बच्चे सरकारी स्कूलों में ही शिक्षा ग्रहण करते है। उन्होंने कहा कि सरकार ऐसे बच्चों को शिक्षा से वंचित रख कर उन्हें और ज्यादा पिछाड़ना चाहती है।

MP Kumari Selja : हरियाणा के 2300 स्कूलों में 9995 पद पीजीटी शिक्षकों के रिक्त

कुमारी सैलजा ने जारी एक बयान में कहा कि हरियाणा के 2300 स्कूलों में 9995 पद पीजीटी शिक्षकों के रिक्त है। इतने पद खाली होने से यह कहा जा सकता है कि सरकारी स्कूलों की शिक्षा व्यवस्था लचर हो चुकी है। स्वाभाविक है कि सरकारी स्कूलों में पढ़ रहे विद्यार्थियों की पढ़ाई बाधित हो रही है। उन्होंने कहा कि इससे स्पष्ट होता है कि बीजेपी सरकार ने जरूरतमंद परिवारों के बच्चों को शिक्षा से वंचित रखने का षडय़ंत्र रचा हुआ है। कुमारी सैलजा ने कहा कि शिक्षा और सेहत सुविधाएं दोनों ही अहम सुविधाएं होती हैं पर बीजेपी सरकार उक्त दोनों प्रकार की बेहतर सेवाएं देने में असफल साबित हो रही है।

खाली पदों ने हरियाणा के भविष्य के रास्ते को संकरा एवं अंधकारमय बना दिया

उन्होंने कहा कि यही स्थिति उच्च शिक्षा में बनी हुई है। उन्होंने कहा कि भारतीय जनता पार्टी, हरियाणा प्रदेश से शिक्षा का स्तर शून्य तक पहुंचाने में कोई कसर नहीं छोड़ रही है। सैलजा ने बताया कि प्रदेश के 182 कॉलेज में प्रोफेसर के 7986 में से 4618 पद खाली पड़े हैं। इन खाली पदों ने हरियाणा के भविष्य के रास्ते को संकरा एवं अंधकारमय बना दिया है। उन्होंने कहा कि आज प्रदेश में एक सवाल आम चर्चा का विषय बन चुका है कि क्या बीजेपी की मानसिकता ये है कि शिक्षित समाज उनके प्रोपेगैंडा में नहीं फंसेगा इसलिए समाज को शिक्षा से तोड़ दिया जाए।

जो फीस की मोटी राशि नहीं दे सकते वे अपने बच्चों को कैसे शिक्षा दिलवाएंगे?

उन्होंने कहा कि कांग्रेस ने हमेशा ही शिक्षा के क्षेत्र को बढ़ावा देने के लिए कदम उठाए, ताकि हर किसी को शिक्षा के बेहतर अवसर प्राप्त हों। शिक्षा से ही बेहतरी का सपना संभव हो सकता है। बेहतर शिक्षा ग्रहण करने पर ही लोग अपने कदमों पर खड़ा होकर देश की प्रगति में योगदान देश सकते है। पर बीजेपी सरकार सरकारी शिक्षण संस्थानों को फेल करके प्राइवेट शिक्षण संस्थानों को बढ़ावा दे रही है। जिनके पास फीस के रूप में मोटी राशि देने को नहीं वे अपने बच्चों को कैसे शिक्षा दिलवाएंगे?

कांग्रेस की सरकार आने पर शिक्षा के बेहतर अवसर प्रदान किए जाएंगे

उन्होंने कहा कि शिक्षा का कभी बाजारीकरण नहीं होना चाहिए। लोकतंत्र में सभी को शिक्षा के समान अवसर मिलने चाहिए। कांग्रेस की सरकार आने पर शिक्षा के बेहतर अवसर प्रदान किए जाएंगे। ताकि हर कोई अपने बच्चों को बेहतर शिक्षा दिलवा सकें और अपने जीवन स्तर को ऊंचा उठा सकें। इससे देश भी प्रगति करेगा। अच्छे नागरिक देश को मिलेंगे। उन्होंने कहा कि मानसिकता कोई भी हो एक बात तो निश्चित है कि हरियाणा में अब भरोसे की सरकार स्थापित होगी और हरियाणा की जनता को न्याय मिलेगा।

यह भी पढ़ें : Haryana Cabinet Minister Mahipal Dhanda : जनता का सेवक हूं, सेवक रहूंगा, राजनीति में सेवा भाव सबसे महत्वपूर्ण : महिपाल ढांडा

यह भी पढ़ें : Surya Ghar Free Electricity Scheme : प्रदेश में आज से सूर्य घर मुफ्त बिजली योजना की शुरुआत